Tuesday, 28 May 2013

जिंदगी आस पास ही तो है ।

तुम बैठे  हो तनहा ,
देखो जिंदगी कहीं आस पास होगी ।
पहाड़ से गिरते झरनों में ,
नदी में अठखेलियाँ करती होगी। 
जंगल से जो आती है जो महक ,
फूलों से लदी उन घाटियों में होगी ।
आजादी का परचम लहराते हुए ,
आसमान में उड़ते पंछियों में होगी ।
शाम ढलते ही उग आया है चाँद ,
उस चांदनी रात में होगी ।
सावन में पड़े हैं झूले ,
उस बरसती बारिश में होगी ।
पहली बूँद से जो गीली हुई ,
उस मिटटी की खुशबु में होगी ।
रुई के नरम स्पर्श जैसे ,
नन्हे कोमल हाथों में होगी ।
क्यों बैठे हो तनहा ,
देखो जिंदगी आस पास ही तो है ।




7 comments:

  1. jindgi kahi aaspaas to hogi ,achchi kavita hai

    ReplyDelete
  2. कल 02/09/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक शुक्रिया...यशवंत जी....

      Delete
  3. सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  4. प्रभावित करता भाव प्रवाह .......

    ReplyDelete
  5. सुन्दर ,सरल और प्रभाबशाली रचना। बधाई।
    सादर मदन

    ReplyDelete

दो लिख रही हूं

तुम जानते हो  दोधारी तलवार पर चलना क्या होता है शायद नहीं जानते  मेरे पास बेबुनियादी बातों का ढेर नहीं है  बल्कि ह...